Welcome To Dynamic Views

Sunday, October 20, 2019

तेरा इस तरह मुझे भूलकर जाने का शुक्रिया....

हम अकेले हैं तो क्या हुआ दोस्तों,
हमने कभी किसी को धोखा तो नहीं दिया,
 इसका ये मतलब नहीं….
 कि हमने कभी किसी से प्यार नहीं किया ।


वो खूबसूरत है पर वफादार नहीं ,
वो मेरे दिल में तो है पर आंखों में बसने के काबिल नहीं ।

वो मेरे बहुत करीब आ गई थी,
 और …..
मैं समझ गया कि इरादा दूर जाने का था ।

हम टूट गए उसे मनाने में,
और……
 उसे थोड़ी सी भी तरस ना आई हमें तड़पाने में ।

इश्क में हमारी मजबूरी ये भी ना कह सकी,
के……
  पनाह दी थी हमने एक बेवफा को दिल के आशियाने में ।

हम उस बेवफा के पत्थर दिल को अपना समझ बैठे,
 पर ये भूल गए कि उम्र बीत जाती है दिल को दिल बनाने में ।

उसकी यादों ने बड़ा जुल्म किया है मुझ पर,
 इनमें एक दर्द है …..
जिससे मैं जिंदगी बीता तो सकता हूं,
पर उमरभर सकून  ऐ आराम नहीं पा सकता ।

अब मंजर ये है तेरे जाने के बाद  ऐ-जान-ऐ जहां,
 के तू तो चली गई पर अब तेरी याद भी नहीं है यहां ।

बस तुझसे इतना सा कहना है...
के तेरा मेरी जिंदगी में आने का शुक्रिया,
तेरा दो कदम हाथ पकड़ कर चलने का शुक्रिया,
तेरा इस तरह मुझे भूलकर जाने का शुक्रिया…...
 तेरा इस तरह मुझे भूलकर जाने का शुक्रिया ।।

©www.dynamicviews.co.in

4 comments: