Thursday, August 8, 2019

रास्ते तो बहुत है, पर मैं भटका नहीं हूं......

सफर तो लंबा है, पर मैं थका नहीं हूं ,
वक्त तो बुरा है,पर मैं डरा नहीं हूं ,
रास्ते तो बहुत है, पर मैं भटका नहीं हूं।

टूटा तो बहुत हूं, पर मैं बिखरा नहीं हूं ,
रोया तो बहुत हूं, पर मैं सहमा नहीं हूं ,
रास्ते तो बहुत है, पर मैं भटका नहीं हूं।


हालातों ने तो बिखेरा है, पर मैं टूटा नहीं हूं,
असफलताओं ने रोका तो है, पर मैं झुका नहीं हूं,
रास्ते तो बहुत है, पर मैं भटका नहीं हूं।

लक्ष्य तो ऊंचा है, पर मैं झुका नहीं हूं,
मुश्किलें तो बेइंतेहा हैं, पर मैं हारा नहीं हूं,
 रास्ते तो बहुत है, पर मैं भटका नहीं हूं।

तकदीर का साथ तो नहीं है, पर मैं डटा हूं,
 मंजिल का नाप तो नहीं है, पर मैं मापता चला हूं,
 रास्ते तो बहुत है पर मैं भटका नहीं हूं।

मंजिले तो दूर है, पर मैं रुका नहीं हूं,
 फासले तो बहुत है, पर मैं थका नहीं हूं,
 रास्ते तो बहुत है, पर मैं भटका नहीं हूं…
रास्ते तो बहुत है पर मैं भटका नहीं हूं।।
©www.dynamicviews.co.in

6 comments: