Welcome To Dynamic Views

Monday, April 8, 2019

कुछ तो याद होगा तुम्हे ....

कुछ तो याद होगा तुम्हे पुरानी गली पर आखरी मकान किसका है ,
......कुछ तो याद होगा तुम्हे पुरानी गली पर आखरी मकान किसका है
अगर सब कुछ भूल गए हो तो ,
.....अगर सब कुछ भूल गए हो तो,
ये तो ज़रूर याद होगा ,
पुरानी गली की दीवार पर आखरी नाम किसका है ,
....पुरानी गली की दीवार पर आखरी नाम किसका है।

माना के वक़्त मेरे साथ नहीं था,
...माना के वक़्त मेरे साथ नहीं था,
लेकिन ,
मेरे हाथ में तुम्हारा हाथ भी तो नहीं था ,
....मेरे हाथ में तुम्हारा हाथ भी तो नहीं था।

हो सकता है इंसान का वक़्त बुरा हो ,
...हो सकता है इंसान का वक़्त बुरा हो ,
पर ज़रूरी नहीं इंसान भी बुरा हो ,
....पर ज़रूरी नहीं इंसान भी बुरा हो।

अब तेरे जाने का कोई फ़र्क नहीं पड़ता ,
...अब तेरे जाने का कोई फ़र्क नहीं पड़ता,
तुझे और क्या कहूं , तेरे होने से भी कोई फ़र्क नहीं पड़ता
.......तुझे और क्या कहूंतेरे होने से भी कोई फ़र्क नहीं पड़ता।

छोड़  चुका हूं तुझे मैं पीछे ,
....छोड़ चुका हूं तुझे मैं पीछे,
बहुत पीछे ,
उस राह पर जहां तूने छोड़ा था मुझे 


अब तू दोबारा से सामने आई है ,
अब तू दोबारा से सामने आई है,
तो तेरे सामने आने पर भी मुझे फ़र्क नहीं पड़ता 
......तो तेरे सामने आने पर भी मुझे फ़र्क नहीं पड़ता।

खुश हूं बहुत के तूने छोड़ा था मुझे ,
खुश हूं बहुत के तूने छोड़ा था मुझे,
इसी से एहसास हुआ तेरे होने या ना होने का ......
इसी से एहसास हुआ तेरे होने या ना होने का,
मेरी ज़िन्दगी पर फ़र्क नहीं पड़ता ,
मेरी.... ज़िन्दगी पर फ़र्क नहीं पड़ता।

दुख तो बहुत है ,
दुख तो बहुत है.....
के हमने तुझे दिल से चाहा ,
पर अब कमबख्त इस दिल को तेरे होने या ना होने का भी फ़र्क नहीं पड़ता ,
....पर अब कमबख्त इस दिल को तेरे होने या ना होने का भी फ़र्क नहीं पड़ता।
.......तेरे होने या ना होने का भी फ़र्क नहीं पड़ता II

Also watch on youtube :
https://www.youtube.com/watch?v=ICnzzZlAUhM

3 comments: